Slide background

आंखे चाहे खोलूं या बंद करूं
हर पल माता तेरा दर्श करूं

Slide background

सुबह सुबह लो माँ का नाम
पूरे होंगे अधूरे बिगड़े काम

Slide background

नवरात्रे नहीं है ये, जीवन को पावन करने का
सुनहरा अवसर है, माँ के चरणों में जाने को मन आतुर है।

हमारी सेवांये

जब लोग सेवा के अपने अनुभव बताते हैं तो उनमें से ज्यादातर लोगों का कहना है कि सेवा करके उन्हें जबर्दस्त आनंद और तृप्ति की अनुभूति हुई।
पुजा
माँ दुर्गा को प्रसन्न करने के लिये दुर्गा पुजा विधी पूर्वक करे तो दुर्गा माँ सारी मनोकामना पुरी करती है |
शादी
माँ दुर्गा को प्रसन्न करने के लिये दुर्गा पुजा विधी पूर्वक करे तो दुर्गा माँ सारी मनोकामना पुरी करती है |
भुमी पुजन
भूमि को समस्त जगत की जननी, जगत की पालक माना जाता है इसलिये इसलिये हिंदू धर्मग्रंथों में धरती को मां का दर्जा भी दिया जायेगा ।
यह
सेवायें
हम देते है
दर्शन
लगातार पांच शनिवार यहां दर्शन करने का विशेष महत्व है और ऐसा करने पर मनोकामना पूरी होने की बात कही जाती है.
प्रसाद (साप्ताहिक भंडारा)
भक्तगण अपने प्रियजनों के जन्मोत्सव तथा अन्य किसी भी उत्सव या खुशी के अवसर पर इच्छानुसार भोग लगाकर दुर्गा सेवा में सम्मिलित हो सकते हैं।
वाहन पुजन
कोई भी नई चीज़ घर लाने से पहले उसकी पूजा करना आवश्‍यक होता है ताकि वो आपके लिए मंगलकारी हो।

मंदिर कि गतिविधीया

मंदिर मे होनेवाले कार्यक्रम तथा गतिविधीया नीचे दिये गई है |
२९ सप्टें. २०१९ से १३ ओक्टो. २०१९

घट स्थापना श्री शारदीय नवरात्र उत्सव २०१९ शुभारंभ

...
२२ जुलै २०१९

१० और १२ के विद्यार्थी का सत्कार समारोह

श्री दुर्गा माता मंदिर संस्थान व भारतीय जनता पार्टी प्रभाग क्रमांक 10,श्री सुनीलजी अग्रवाल,पूर्व उप महापौर, ...

श्री दुर्गा वासंती नवरात्र उत्सव संपन्न

श्री दुर्गा माता मंदिर , छावणी यज्ञ - हवन- बलिपूजा - पूर्णआहुती - देकर माँ को ...

मंदिर की समय सारणी

मंदिर सुबह 4:30 पर खुलता है और रात्रि में 10 pm पर पटट बंद किये जाते है इस दोहरान मंदिर में होने वाली दिनचर्या इस तरह है |

मंदिर के पटट का खुलना

4:30 am

ककड़ आरती

4:30 से 6:00 am

सुबह की महापूजा

8:00 am से 8:30 am

भोग अर्पण नेवध्य

9:30 am

धुप आरती

8:00 pm

आरती और मंदिर के पटट बंद होना

10:00 pm